Avatar

राजेश मंगल

परिचय
नाम
राजेश मंगल
आखर-आखर में प्रकाशित रचनाएं

डॉ पुष्पलता का हाल में लघु कथा संग्रह "फार्मूला 44" नाम से प्रकाशित हुआ है। इसमें कुल 44 छोटी कहानियाँ शामिल की गई हैं। कहावत है देखन में छोटे लगे घाव करे गंभीर। डॉ पुष्पलता ने अपनी कहानियों के माध्यम से इसे ही चरितार्थ किया है। ये कहानियाँ समाज के अलग-अलग परिदृश्यों, घटनाओं से निकली हुई प्रतीत...

पीड़ा व्यापित है दिग-दिगन्त, सुख थोड़ा है पर दुख अनन्त ;पतझड़ बगिया में डोल रहा, कैसा वसन्त ? किसका वसन्त ??

  उपन्यास का शीर्षक प्रथम दृष्टया पाठक को किसी नारी के व्यथित जीवन के कथानक का संकेत देता प्रतीत होता है, किंतु यह कथन छह पुत्रियों के पिता का है जो अपनी पुत्री के प्रति स्नेह व उत्तरदायित्व की अभिव्यक्ति को बल देता है।

अस्तित्व
कथा कहानी

टी.वी. पर प्रवासी मजदूरों के पलायन और मारा-मारी का हाल देखकर मैं बार-बार सोचता हूं कि कितने नासमझ और बेवकूफ हैं ये लोग, क्या इन्हें कोरोनावायरस की महामारी का अभी तक पता ही नहीं चला या अपनी जान की बिल्कुल भी चिन्ता नहीं।

कई !
कविता / ग़ज़ल

हर क़दम पर हैं इम्तिहान कई।है अकेला दिया, तूफ़ान कई। एक साये को तरसते हैं हम,यूँ तो सर पर हैं आसमान कई।

प्रहर-दिवस, मास-वर्ष बीतेजीवन का कालकूट पीते. पूँछें उपलब्धियाँ हुईंखेलते हुए साँप-सीढ़ी मंत्रित-निस्तब्ध सो गयी

गीत लाडले
कविता / ग़ज़ल

स्मृतियों के वातायन से,झाँक- झाँक कर मुझे रिझाते।भावों के झरने नि:सृत हो,तृषित अधर की प्यास बुझाते।।

असंदिग्ध लौ
कथा कहानी

आज अचानक मेरे मित्र का वीडियो कॉल आया और मैं सो कर भी नहीं उठी थी इसलिए मैंने फोन नहीं उठाया। लेकिन जब देखा तो खुद को रोक नहीं पाए और रजाई को पलटकर ब्रश करके तुरंत नीचे हॉल में जाकर उन्हें फोन लगा ही दिया।

मुक्तिगान
कथा कहानी

घोर कलयुग आ गया है ।एक ही बेटा है और कुछ कमी भी नहीं है,इतनी ज़मीन-जायदाद........? "राम-राम ऐसा अनर्थ तो न कभी देखा,न सुना। पहली बार ऐसा अनोखा खेल अपने समाज़ में हो रहा है।

हमसे मौसम ने कहा हमने निकाली चादरजिसमें पुरखों की बसी गंध संभाली चादर दिन में पूरी थी मगर रात अधूरी - सी लगीसिर पे खींची तो कभी पांव पे डाली चादर

आलेख और अधिक ...

सम्पादक मंडल

मुख्य सम्पादक : डॉ. पुष्पलता मुजफ्फरनगर

सह सम्पादक : मिली सिंहराहुल सिंह

प्रबंध सम्पादक : राजेश मंगल

रचना प्रेषित करें

"आखर-आखर" पत्रिका में प्रकाशन हेतु आपकी साहित्यिक लेख, कविता, कहानी, लघुकथा, व्यंग्य, समीक्षा, संस्मरण आदि रचनाएं आमंत्रित है।

प्रकाशन हेतु लेखक अपनी रचना "editor@aakhar-aakhar.com" पर ईमेल कर सकते हैं।

पुस्तक समीक्षा प्रकाशन हेतु पुस्तक की एक प्रति डाक द्वारा निम्न पते पर अवश्य भेजें :

डॉ पुष्पलता अधिवक्ता मुजफ्फरनगर
253-ए, साउथ सिविल लाइन,
मुजफ्फरनगर-251001 (उ.प्र.)

Go to top

 © सर्वाधिकार सुरक्षित आखर-आखर (हिन्दी वेब पत्रिका) || Powered by Rajmangal Associates Pvt Ltd