कहानियां सभी को अच्छी लगती है। दादी सुनाती है तो ओर भी लुभाती है। बोर हुई तो बच्चों को सुलाती है। मगर, कहानियाँ भाती और लुभाती सभी को है। कारण, इनमें रोचकता और सरसता कूट-कूट कर भरी होती है।

'चिड़िया की सीख'- ऐसी ही कहानियों का अनमोल खजाना है। इस पुस्तक में 7 कहानियां संग्रहित है। जिसके सुविख्यात कहानीकार राजकुमारजी जैन राजन स्वयं एक रोचक, प्रेरक और बालसुलभ जिज्ञासाओं से परिपूर्ण व्यक्तित्व के स्वामी हैं। आप की यही प्रवृति इं कहानियों में देखने को मिलती हैं।

संग्रह की पहली आमुख-कहानी चिड़िया के माध्यम से बच्चों को स्वस्थ मनोरंजन करती है। सरस, सरल और प्रभावोत्पादक रूप से लिखी हुई इस कहानी में आपसी व्यवहार के बारे में महत्वपूर्ण संदेश देती है।

'झूठ का जाल'- बच्चों को कहानी के माध्यम से सत्य का महत्व को प्रतिपादित करने में सफल रही है। वही 'पानी अनमोल'- प्रकृति की इस अमूल्य निधि को सहेजने की सीख देती है।

'जंबो ने माफी मांगी'- कहानी के द्वारा बच्चों में स्वीकारोक्ति का भाव भरती यह कहानी भाव, भाषा, शैली और कथ्य की दृष्टि से बेहतरीन पड़ी है। 'टिंकू की तरकीब'- बच्चों को कार्यकुशलता से करने का गणित सिखाती है।

नाम के अनुरूप 'बुलबुल और बुलबुल'- बच्चों को लुभाती, भाती और मनोरंजन करने के साथसाथ अपनी ओर आकर्षित करती है । वही 'उड़ने का प्रयास'- बच्चों को सीखने के प्रयास को हौसले की उड़ान देने की बेहतरीन कोशिश करती हुई कहानी प्रतीत होती है।

कुल मिलाकर सभी कहानियां बच्चों के भाव और उनकी अपेक्षाओं के अनुरूप बेहतरीन व सारगर्भित है। प्रगतिशील शैली में लिखी गई कहानियाँ उपयोगिता, रोचक, सरल, सहज व नवीन है।

आकर्षक साज-सज्जा व त्रुटिहीन मुद्रण ने पुस्तक की उपादेयता में वृद्धि की है। सुंदर व आकर्षक रेखाचित्र के साथ सुंदर छपाई, सफेद कागज व आकर्षक मुखपृष्ठ के साथ बच्चों के लिए बहुत सुंदर कृति प्रकाशित की गई है।

32 पृष्ठों की पुस्तक का मूल्य ₹40 रचनाओं और पुस्तक की गुणवत्ता के हिसाब से वाजिब है। इस पुस्तक को अपने बच्चों के स्वस्थ मनोरंजन के लिए खरीद कर देना चाहिए। इस पुस्तक को बच्चे अवश्य पसंद करेंगे।


पुस्तक: चिड़िया की सीख (कहानी संग्रह)
रचनाकार: राजकुमार जैन राजन
संस्करण: 2012, मूल्य: 40 रुपए
प्रकाशक: विभोर प्रकाशन, 242 - सर्वधर्म कॉलोनी, सी-सेक्टर, कोलार रोड, भोपाल-462001 (मध्यप्रदेश). मोबाइल नंबर 9828219919